Tuesday, June 26, 2007

Watch online Vyomkesh Bakshi old detective stories of doordarshan


याद कीजिये दूरदर्शन का वह सीरियल जिसने हिन्दी दर्शकों को पहली बार जासूसी के रोमांच से भर दिया। शरला‌क होम्स का ठेठ भारतीय संस्करण व्योमकेश बक्शी, जिसने दर्शकों के बीच अपार लोकप्रियता हासिल की। रजत कपूर के अभिनय के रूप में भारतीय जासूस का वह संस्करण आज भी लोगों को याद है। शरीर में अचानक रोमांच सा पैदा करने वाला वह पार्श्व संगीत कैसे भुलाया जा सकता है। आज तक छोटे पर्दे पर कोई भी जासूसी कार्यक्रम उसकी लोकप्रियता के इर्द-गिर्द भी नहीं पहुंचा है। व्योमकेश बक्शी के वह रोमांचक कारनामे अब आप आनलाइन भी देख सकते हैं। दूरदर्शन के कुछ अन्य पुराने कार्यक्रमों की लिंक्स मैं पहले भी यहां उपलब्ध करा चुका हूं।



व्योमकेश बक्शी आनलाइन देखने के लिये इन लिंक्स पर जायें-


Tasveer Chor







Bemisal:







Amrit ki Maut:







Balak jasoos:








इस कार्यक्रम के कुछ डाउनलोड लिंस भी यहां उपलब्ध हैं-








6 comments:

संजय बेंगाणी said...

याद आ गया मुझको गुजरा जमाना....

Sanjeet Tripathi said...

वाह! शुक्रिया!

mahashakti said...

बहुत खूब
कहॉं चले जाते हो आप ? :)

sunita (shanoo) said...

बहुत-बहुत शुक्रिया…

Udan Tashtari said...

आभार, बन्धु. बहुते पुराना समय याद दिला दिया. :)

Pratik said...

वाह! आपने तो बिसरा हुआ ख़ज़ाना ही भेंट कर दिया है। शुक्रिया।