Sunday, June 14, 2009

जरूरतें कम करके भी आप पर्यावरण को बचा सकते हैं


सबसे पहले तो अपन स्‍पष्‍ट कर दें कि अपन यहां पूंजीवाद, साम्‍यवाद, समाजवाद या और किसी वाद या विचारधारा पर बहस की शुरूआत नहीं कर रहे। फिलहाल जो दुनियाभर में हल्‍ला मचा हुआ है ग्‍लोबल वार्मिंग का और उसके लिए जो प्रयास हो रहे हैं वो कितने मायने रखते हैं जब तक हम एक व्‍यापक परिवर्तन या ठीक से कहें तो जीवनशैली में परिवर्तन को एक मुद्दा नहीं बनाते। मेरा मानना है कि आज के इंसान की जीवनशैली संबंधी जरूरतें इसी तरह बढ़ती रहें और साथ ही हम ग्‍लोबल वार्मिंग व पर्यावरण की ढपली भी बजाते रहें तो उससे कोई सुधार आ सकेगा ऐसा लगता तो नहीं।
आज की मुक्‍त बाजार व्‍यवस्‍था और पूंजीवाद के घनघोर समर्थक चाहते हैं कि लोगों की जरूरतें बढ़ें, लोग ज्‍यादा से ज्‍यादा उपभोक्‍ता सामान खरीदें, उन्‍हें किसी भी तरह ललचाकर बाजार तक खींचा जाए और यही एक बढ़ती और तरक्‍की करती हुई अर्थव्‍यवस्‍था का मूलमंत्र है। इसी विषय पर मैंने काफी समय पहले एक पोस्‍ट लिखी थी (पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें) जिसमें मैंने मुद्दा उठाया था कि किस प्रकार पूंजीवादी व्‍यवस्‍था लोगों की जरूरतें बढ़ाने और बेवजह के सामानों का निर्माण कर उन्‍हें बहुत ही आवश्‍यक वस्‍तु के रूप में प्रचारित कर बाजार में खपाने की है। पूंजीवाद के समर्थकों का कहना है कि इस व्‍यवस्‍था के अलावा फिलहाल कोई विकल्‍प नहीं है और ये व्‍यवस्‍था लोगों का जीवन-स्‍तर सुधारने और उपभोक्‍ता वस्‍‍तुओं तक उनकी पहुंच सुलभ बनाने के लिए कारगर साबित हुई है परंतु धरती पर दिनोंदिन बढ़ रहा कचरा, ई-कचरा, संसाधनों का अंधाधुंध शोषण, कटते जंगलों के लिए क्‍या यही व्‍यवस्‍था उत्‍तरदायी नहीं है। केवल और केवल यही कारण है कि मुझे इस व्‍यवस्‍था से चिढ़ है चूंकि पर्यावरण के लिए बढ़ती अर्थव्‍यवस्‍थाएं और बढ़ते बाजार एक अभिशाप बन चुके हैं और ध्‍यान देने वाली बात ये है कि इन बाजारों में आम इंसान की जरूरत की चीजों के अलावे जो अधिकांश चीजें खपाई जा रही हैं उनकी वास्‍तविकता में कोई जरूरत व औचित्‍य नहीं है पर बाजार बढ़ाना है, मुनाफा बढ़ाना है अर्थव्‍यवस्‍था बढ़ानी है और सबसे बड़ी बात ये है कि दूसरे देशों से आज के युग में प्रतिद्वंदिता भी करनी है और मुनाफे की इस रेस के लिए चाहे कितनी भी कुर्बानी देनी पड़े सब जायज है।
लोगों को मेरी बात कष्‍ट पहुंचा सकती है...कुछ लोग ये भी कहेंगे कि पैसा जो मैं अपनी मेहनत से कमाता हूं उसे खर्च करने की मुझे पूरी आजादी है पर क्‍या एक इंसान होने के नाते आपकी जो जिम्‍मेदारी है उसके लिए क्‍या आपने सोचा है।
हालांकि इसमें लोगों का दोष भी नहीं है....उन्‍हें जो सिखाया जाता है वे वैसा ही करते हैं। आजकल के बच्‍चे जो पैदा होते ही टीवी देखकर बड़े हो रहे हैं वे बड़े होकर इन सब बातों को कैसे समझ पायेंगे। आज की बाजार व्‍यवस्‍था एक ऐसा समाज तैयार कर रही है जिसमें उसे केवल उपभोक्‍ता ही नहीं बनाने हैं बल्कि उनकी सोच, उनकी आदतों का भी निर्माण करना है और ऐसे ही लोगों की जरूरत है इस सिस्‍टम को।
महात्‍मा गांधी का वो प्रसिद्ध कथन तो सबने पढ़ा होगा कि ये धरती लोगों की जरूरतें पूरा करने में सक्षम है पर उसके लालच को नहीं। पर फिर भी बाजार व्‍यवस्‍था के समर्थक कुतर्क करने से बाज नहीं आने वाले जबकि बाजार व्‍यवस्‍था और बढ़ता हुआ लालच एक दूसरे के पर्यायवाची हैं और दुनिया को लगातार लालची बनाते जाने के दुष्‍परिणाम हम अभी से देख ही रहे हैं।
ब्राजील में अमेजन के घने जंगल जिन्‍हें धरती के फेफड़े भी कहा जाता है उन फेंफड़ों में भी यही लालची बाजार व्‍यवस्‍था कैंसर की तरह प्रवेश कर चुकी है। पर फिर भी लगता है कि पर्यावरण सरकारों के लिए कोई मुद्दा ही नहीं रह गया है सभी मुद्दों का केंद्र है बढ़ती हुई अर्थव्‍यवस्‍था जिससे उद्योगपति भी खुश, उपभोक्‍ता भी खुश और टैक्‍स से अपनी जेबें भरने वाली सरकारें भी खुश।
एक साधारण समझ की बात है एक तरफ तो हम अपनी जरूरतों को बढ़ाने में लगे हुए हैं दूसरी तरफ पर्यावरण की भी बात कर लेते हैं। ये दोनों ही बातें घोर विरोधाभाषी हैं....जैसे हम पानी बचाने की बात करते हैं पर पैसा होने पर घर में खुद का स्‍वीमिंग पूल बनवाने से भी नहीं कतराते। जबकि जितनी भी लग्‍जरी सुविधाएं हैं उन्‍हीं की कीमत हम चुका रहे हैं।

खैर इस तरह की उपदेशात्‍मक बातें करके भी हम क्‍या उखाड़ लेंगे। आईये आज हम मिलकर संकल्‍प लेते हैं कि बाजार से केवल उन्‍हीं सामानों को खरीदेंगे जिनकी हमें जरूरत है। केवल विज्ञापनों से प्रभावित होकर, पड़ौसियों व रिश्‍तेदारों से प्रभावित होकर हम बाजार का रुख नहीं करेंगे। यही एक मंत्र है जिसको हमें आत्‍मसात करना होगा यदि वाकई हम पर्यावरण के प्रति सचेत हैं।

2 comments:

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

उपभोक्तावाद पूँजीवाद की आधुनिक दुनिया का प्राण है। यह उक्ति वहाँ प्रचलित है कि माल जरूरत के कारण नहीं बिकता। जरूरत पैदा की जाती है। रोज एक्वागार्ड बेचने वाला आ जाता है। आएगा, अतिशय उपभोक्तावाद ने शुद्ध जल के सारे स्रोत शनैः शनैः समाप्त कर दिए हैं। भूजल जिस के शुद्ध होने पर बहुत भरोसा था। वह भी शुद्ध नहीं रहा है। भूमि जिसे हमने माँ का दर्जा दिया उस की जल शुद्धि का प्राकृतिक संयंत्र नष्ट कर दिया गया है। अब नहीं नजर आते मीठे पानी के सोते।
दुनिया को बचाना है तो उपभोक्तावाद और पूँजी के इस मानवघाती निर्मम खेल पर लगाम तो लगानी ही होगी। साथ ही प्रदूषण को न्यूनतम करने के लिए वैयक्तिक और सामाजिक प्रयास करने ही होंगे। वरना समूची मानव जाति के साथ पृथ्वी पर जीवन ही संकटग्रस्त हो लेगा।

संजय बेंगाणी said...

वाद गया भाड़ में उसे अपनाओ जो समय की माँग है. मैं युज एण्ड थ्रो वाले उत्पादों के उपयोग से यथा सम्भव बचता हूँ. घटिया चीनी उत्पाद नहीं खरीदता. किसी भी वस्तु को झट से फेंकने के स्थान पर अधिकत्तम समय तक उपयोग ही दुनिया को बचा सकता है.